मीटर रीडर एवं बिजली अधिकारियों की दुरभि संधि से उपभोक्ताओं का हो रहा आर्थिक उत्पीड़न 

 मीटर रीडर एवं बिजली अधिकारियों की दुरभि संधि से उपभोक्ताओं का हो रहा आर्थिक उत्पीड़न 

बांगरमऊ, उन्नाव।

बिजली मीटर रीडर एवं बिजली अधिकारियों की दुरभि संधि से उपभोक्ताओं का आर्थिक उत्पीड़न किया जा रहा है। मीटर रीडर द्वारा गलत तरीके से बिल निकालकर उपभोक्ता को पकड़ा दिया जाता है जिस को सही कराने के नाम पर बिजली अधिकारी उपभोक्ता से लंबी चौड़ी रकम वसूल करते हैं। उसके बाद उपभोक्ता द्वारा उपयोग की गई बिजली की धनराशि से भी कम धन वसूल कर विभाग को भी चूना लगाते रहते हैं।
यह पूरा मामला नगर पंचायत फतेहपुर चौरासी में उभर कर सामने आया है।बताते हैं कि इस नगर में जो मीटर रीडर ठेकेदार द्वारा भेजा जाता है वह विभागीय अधिकारियों को लंबी कमाई कराने के चक्कर में उपभोग की गई बिजली से कई गुना अधिक धनराशि का बिल निकाल कर थमा देता है। साथ ही सलाह देता है यह तो बिल बहुत अधिक आया है इसको अधिकारियों के पास जा कर सही करा लीजिए। उपभोक्ता बिल सही कराने के चक्कर में अवर अभियंता एवं सहायक अभियंता के कार्यालयों के चक्कर लगाते रहते हैं। जब इन कार्यालयों के लिपिकों द्वारा उपभोक्ता से कम की जा रही धनराशि में से 50 से 60% खुद लेने का सौदा तय हो जाता है तो वह बिल सही करके उपभोक्ता द्वारा उपयोग की गई बिजली से भी कम उपयोग दिखाकर बिल वसूली कर लेते हैं। इस तरह की वसूली से उपभोक्ता से तो धन उगाही की ही जाती है साथ-साथ विभाग को भी चूना लगाया जा रहा है। नगर पंचायत क्षेत्र के कई उपभोक्ताओं ने अलग-अलग बताया कि मीटर रीडिंग का काम करने वाला कर्मचारी जब घर पर आता है तो जो उपभोक्ता उसके खाने पीने की सेवा कर देता है तो वह बिल कम निकालता है ।इसके अलावा जो उपभोक्ता सेवा भाव नहीं रखते उनको 4 से 5 गुना तक अधिक बिल निकाल कर दिया जाता है फिर उपभोक्ताओं से अवर अभियंता एवं सहायक अभियंता के कार्यालयों के लिपिकों द्वारा अवैध वसूली का खेल चलता है और बड़े पैमाने पर अवैध वसूली की जाती है और वसूली गई उस धनराशि में बंदरबांट कर लिया जाता है

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आरपीएस समाचार के सन्धर्भ क्या कहना चाहते है

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close