तानों से तंग आकर 3 बेटियों के माता पिता ने रचाई शादी, 10 साल से रह रहे थे एक साथ

तानों से तंग आकर 3 बेटियों के माता पिता ने रचाई शादी, 10 साल से रह रहे थे एक साथ

रिपोर्ट -आर पी एस समाचार
प्रमुख संवादाता गिरीश त्रिपाठी

एक साथ रह रहे एक दंपति को जब शादीशुदा जोड़ों की तरह रहने के अधिकार समाज ने नहीं दिए ,तो हारकर उन्‍होंने शादी कर ही ली ।
ये अनोखा मामला उत्तर प्रदेश के जनपद उन्नाव के फतेहपुर चौरासी का है । जहां 10 साल से लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे तीन बेटियों के माता पिता ने बुधवार को ले लिए सात फेरे ।
शादी में दोनों की दो बेटियां भी शामिल हुईं । एक बेटी ननिहाल मे होने के कारण शादी में शामिल नहीं हो सकी ।

सुमन और सुनील नाम के इस नवविवाहित जोड़े ने बताया कि वो 10 साल से इस रिश्‍ते में खुशी-खुशी रह रहे थे । लेकिन समाज में उन्‍हें जोड़े के रूप में स्‍वीकार नहीं किया गया, धार्मिक अनुष्ठान में शामिल न होने, बिरादरी में पति-पत्नी का दर्जा न मिलने के कारण वो तानों से परेशान हो गए थे । इसीलिए उन्‍होंने शादी का फैसला लिया । दोनों एक दूसरे के साथ पिछले 10 साल से रह रहे थे ।

 

नवविवाहिता सुमन, सुनील के साथ रहने से पहले अपने पति से तलाक ले चुकी थी ।

उसकी शादी 2004 में हुई थी, लेकिन पति के उत्पीड़न के चलते वो अदालत गई और उसे तलाक मिल गया ।
सुमन की पहली शादी से एक बेटी थी, जिसे साथ लेकर वो मायके में रहने आ गई ।
दस साल पहले उसकी मुलाकात फतेहपुर चौरासी के गांव गोरीमऊ निवासी सुनील कश्यप से हुई,
दोनों ने साथ रहने का फैसला किया । सुनील से सुमन को दो और बेटी हुईं जो अब 5 और 4 साल की हैं । जबकि पहली शादी से हुई बेटी अब 15 साल की हो चुकी है । वो अपने ननिहाल में रहकर पढ़ रही है ।

सुनील ने बताया कि बड़ी बेटी शादी में पढ़ाई के कारण शामिल नहीं हो पाई ।

35 साल के सुनील और 34 वर्षीय सुमन ने बताया कि परिवार या बिरादरी में होने वाले मांगलिक व धार्मिक अनुष्ठानों में उन्‍हें पति-पत्नी के रूप में सम्मिलित नहीं किया जाता था ।
दो महीने पहले भतीजी की शादी में उनके साथ बुरा बर्ताव हुआ, इसी वजह से उन्‍होंने शादी का फैसला लिया । 21 जुलाई को गांव में ही रीति-रिवाजों के साथ शादी की रस्‍में पूरी हुई । दोनों बेटियां इस शादी में बाराती थीं ।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आरपीएस समाचार के सन्धर्भ क्या कहना चाहते है

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close